भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक एक क़तरे का मुझे देना पड़ा हिसाब / ग़ालिब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक-एक क़तरे का मुझे देना पड़ा हिसाब
ख़ून-ए-जिगर, वदीअ़त-ए-मिज़गान-ए-यार[1] था

अब मैं हूँ और मातम-ए-यक-शहर-आरज़ू[2]
तोड़ा जो तूने आईना तिमसाल-दार[3] था

गलियों में मेरी नाश[4] को खींचे फिरो कि मैं
जां-दादा-ए-हवा-ए-सर-ए-रहगुज़ार[5] था

मौज-ए-सराब-ए-दश्त-ए-वफ़ा[6] का न पूछ हाल
हर ज़र्रा मिस्ल-ए-जौहर-ए-तेग़[7] आबदार[8] था

कम जानते थे हम भी ग़म-ए-इश्क़ को पर अब
देखा तो कम हुए पे ग़म-ए-रोज़गार[9] था

किस का जुनून-ए-दीद तमन्ना-शिकार था
आईना-ख़ाना वादी-ए-जौहर[10]-ग़ुबार था

किस का ख़याल आईना-ए-इन्तिज़ार था
हर बरग[11]-ए-गुल के परदे में दिल बे-क़रार था

जूं[12] ग़ुन्चा-ओ-गुल आफ़त-ए-फ़ाल-ए-नज़र[13] न पूछ
पैकां[14] से तेरे जलवा-ए-ज़ख़म आशकार[15] था

देखी वफ़ा-ए-फ़ुरसत-ए-रंज-ओ-निशात-ए-दहर[16]
ख़मियाज़ा यक दराज़ी-ए-उमर-ए-ख़ुमार[17] था

सुबह-ए-क़यामत एक दुम-ए-गुरग[18] थी असद
जिस दश्त[19] में वह शोख़-ए-दो-आ़लम[20] शिकार था

शब्दार्थ
  1. प्रेमी के पलकों की धरोहर
  2. अभिलाषाओं रूपी महल के उजड़ जाने का शोक
  3. चित्रमय
  4. लाश
  5. गली-2 घूमने-फिरने की इच्छा का पीड़ित
  6. वफा के मरुस्थल की मरीचिका
  7. तलवार की धार की तरह
  8. चमकदार
  9. संसार-सम्बंधी ग़म
  10. मिट्टी
  11. पत्ती
  12. जैसे
  13. निगाह के जादू की दुर्घटना
  14. तरकश
  15. प्रकट
  16. संसार की खुशी और गम के मौके की निष्ठा
  17. अंगड़ाई में जिंदगी भर का नशा
  18. अकेले भेड़िये की पूँछ
  19. रेगिस्तान
  20. बहुत चंचल