भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक जाट और एक जाटणी बालक बनायो / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक जाट और एक जाटणी बालक बनायो
काई खोट बाबा ने बालक पे धप्प जमायो
बालक रोमत रोमत अपनी महतारी पै आयो
क्यों बालक मार्यो बालम बड़े दुखन्तु जायो
या में मेरो साझा ना है सुन आच्छा मारूंगा
अबे तबे बोलेगी दारी तोहे भी झारूंगा
तीन महीने लौं मोहे सूखी लियो हवकाई
उठे कमर में दरद देख मेरे पीछे बैठी दाई
मेरे बड़े परेखे आवैं मारैं माल लुगाई
कुनबा तो खाबे चुपरी चीकनी तने गोला खांड उड़ाई
इन मालन में आग लगादे तूं दो इक बालक करले
खबरदार जो तने बालक के हाथ लगायो
हरसुख कहै या में मेरो साझो घणो बतायो