भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक जान दुख इतने सारे / विनोद तिवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


एक जान दुख इतने सारे
ओ बचपन फिर से आ जा रे

दूर-दूर तक सन्नाटा है
तनहा पंछी किसे पुकारे

अनजाने सुख की आशा में
नगर-नगर भटके बंजारे

किसे पता है इस बस्ती में
कब आ जाएँगे हत्यारे

क्षमताओं के नन्हें‍ बाज़ू
इच्छाएँ हैं चाँद सितारे