भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक तरंग / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक तरंग ह्रदय में आई,
बुद्ध रूप गौतम ने धारा।
एक तरंग हृदय में आई,
मीरा ने रनिवास बिसरा।
एक तरंग ह्रदय में आई,
जहर पी गई कृष्ण कुमारी।
एक तरंग ह्रदय में आई,
कष्ट सहे गाँधी ने भारी।
करते ऐसे काम वीर जन,
दुनियां रह जाती है दंग।
पर सोचो तो वह है केवल,
एक ह्रदय की एक तरंग।