भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक नास्तिक के प्रार्थना गीत-3 / कुमार विकल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


प्रभु जी मेरी एक विनय तो सुन लो

सभी प्रार्थनाएँ लेकर मुझसे

एक शराबी कविता दे दो

जो मुझको सस्ती शराब के अड्डों पर ले जाए

जहाँ बूढ़े ,बेकार और बेकार रंडियाँ


या छाँटी मज़दूर

ज़हरीली दारू पी कर मर जाते हैम

अख़बारों के कालम भर कर

जीवन की कीमत जो मरने पर पाते हैं.