भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक नास्तिक के प्रार्थना गीत-8 / कुमार विकल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवन भर की व्यथा—कथा को

कविता में कहना चाहा था

एक सुलगते वन का मैने

महाकाव्य लिखना चाहा था


लेकिन प्रभु जी, महाकाव्य से

जीवन जंगल बहुत बड़ा था

और हमारा जीवन जल भी

धीरे—धीरे सूख चला था


प्रभु जी , आओ मिलकर ऐसी

कोई नदिया ढूँढ निकालें

जिसके जल से एक सुलगता—

जंगल चंदन—वन बन जाए


कविता से भी बड़ी नदी का

जल मैंने पीना चाहा था

महाकाव्य से बड़ी को

शब्दों में रचना चाहा था