भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

एक पर एक फूल सूंघल्हौ पेॅ नासपुट / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक पर एक फूल सूंघल्हौ पेॅ नासपुट
पल-पल खोजै वही पहिलोॅ सुगंध केॅ।
एकरा पेॅ राखी कभी आपनोॅ घटा रं केश
शांत आरो तृप्त हुवै बाँधने ई कंध केॅ।
लाख कोशिश्हौ पेॅ एक याद मिटलै नै कभी
छोड़े नै छै आत्मा ऊ बंधनोॅ के बंध केॅ।
हाला प्याला मृगया मं भांसलै नै याद कभी
कोनो सुख सेज दूर कैलकै नै फंद केॅ॥