भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक पहाड़ी यात्रा / कुमार विकल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहुत पीछे छोड़ आया हूँ

अपने शरीर से घटिया शराब की दुर्गंध

जिससे उड़ गये हैं मेरे डर

तुच्छताएँ, कमीनापन.

चट्टान से फूटा है झरना

बह गया मेरा अकेलापन.

सुरमई आकाश के नीचे

कौन है अकेला

कौन है निस्संग.

जब तक बहता है झरना

और मँडराती है

मेरे जिस्म के आसपास

एक पहाड़ी क़स्बे की गंध

मैं नहीं अकेला

मैं नहीं निस्संग.

शहर को लौटूँगा तो

ले जाऊँगा

पलको के बटुओं में सुरमई आकाश

थर्मस में झरनों का जल

और जिस्म में एक पहाड़ी क़स्बे की गंध.