भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक प्रेम सम्वाद / भारत यायावर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुझसे मेरा रिश्ता है
तू एक फरिश्ता है

तुम भूल भी जाओ तो
ये दिल तो बावस्ता है

मैं क्या तुझसे मांगूँ
तू खूब समझता है

पहचान रहा था मैं
तू मेरा रस्ता है

मैं खोकर बैठा हूँ
तू पाकर रिसता है

ऊपर-ऊपर उड़कर
यह मेघ बरसता है

भीतर-भीतर मेरा
ये दिल तो करकता है

आराम नहीं पल भर
यह जीवन घिसता है

खुद को खोकर पाया
यह क्योंकर दिखता है