भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक बादल झुका / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक बादल झुका मेरी छत पर, सुनो,
उस बादल ने कितने रूप धरे
हाँ, सुनो जी सुनो ।

खरगोश बना, वह मोर बना,
वह सिपाही बना, वह चोर बना,
उस चोर से हम सब ख़ूब डरे
हाँ, सुनो जी सुनो ।

उस बादल का चेहरा निराला था,
कहीं नीला, कहीं पूरा काला था,
जिसे देख के आने से धूप डरे
हाँ, सुनो जी सुनो ।

फिर जाने कहाँसे धुआँ-सा हुआ,
उस बादल का चेहरा रुआँसा हुआ,
वह रोया तो बूँदों के फूल झरे
हाँ, सुनो जी सुनो ।