भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक बार की बात है / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक बार की बात है कोई एक थे ज़नाब
ऐसा नहीं कि पी रखी थी उन्होंने बहुत शराब
पर लगता यह था कि वे नहीं हैं अपने होश में
घर में लगवा लिया उन्होंने भोंपू बड़े जोश में

भोंपू बजा ख़ूब ज़ोर से कई बार जब दनादन
आस-पास के पड़ोसियों का नाराज़ हो गया मन
मोहल्ले के नेता को लोगों ने भेजा उनके पास
गुस्से में वह भरा हुआ था -- कर दूँगा जाके बाँस

तब तक पहुँच गया वहाँ चौकीदार सेबस्त्यान
भोंपू पर मार हथौड़ा उसने, ले ली उसकी जान
भोंपू-मालिक के भी उसने तोड़े सोलह दाँत
गायब हो गई उनके मुँह से ऊपर वाली पाँत

बात यह नहीं कि चौकीदार आदमी था बेहद रूखा
असल बात यह है कि भोंपू फिर कभी न कूका

1934