भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक मोहरा खेल का क्या ले गया / हस्तीमल 'हस्ती'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक मोहरा खेल का क्या ले गया
लुत्फ़ सारी बाज़ियों का ले गया

मुझसे जल्दी हार कर मेरा हरीफ़
जीतने का लुत्फ़ सारा ले गया

हमसे तो कुछ यूँ निभाई वक़्त ने
घर दिखाकर घर का रस्ता ले गया

इक उचटती सी नज़र डाली थी बस
वो न जाने मुझसे क्या-क्या ले गया

सारे तूफां देखते ही रह गए
ख़ुश्बुओं का लुत्फ़ झोंका ले गया