भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक रहिस दुनिया / राकेश रंजन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक रहिस तोता
तैरिस था बनेबन लगाइस था गोता
वही मिलिस एक रोज ठुनक-ठुनक रोता !

एक रहिस मैना
छमकिस थी छनेछन नचाइस थी नैना
उसने ही छीन लिहिस तोते का चैना !

एक रहिस दुनिया
मजा-मस्त चाभिस दिस प्रेम-रसित बुनिया
प्रेम-राग ओटिस विथ घोटिस हरमुनिया !