भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

एना मण्ढवा की, काहो देखी बात / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

एना मण्ढवा की, काहो देखी बात
एना मण्ढवा मऽ लगी चौरा जोत।
फूलन चाहे मण्ढवा हो।
एना मण्ढवा मऽ चौसट खंभा, चौर्यासी दीया जलय
एना मण्ढवा मऽ, खम्बज-खम्बज दीया जलय
एना मण्ढवा मऽ लगी हय जगा जोत
फूल चाहे मण्ढवा हो।
मऽ राऽ सदा की रनिया हो
एना मण्ढवा खऽ काहो देखय
एमऽ लग्या हय खम्बा चौर्यासी जगा जोत
फूलन चाहे मण्ढवा हो।