भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

एनी हबेली मऽ दुहिरा-दुहिरा खम्ब ते / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

एनी हबेली मऽ दुहिरा-दुहिरा खम्ब ते
खामिन-खामिन दिवल्या जलय रे।। एनी...
एनी हबेली मऽ कोनती रव्हय नार ते
खामिन-खामिन दिवल्या जलय रे।। एनी...
एनी हबेली मऽ समदीन नारऽ ते
खामिन-खामिन दिवल्या जलय रे।। एनी...
ओकी टिकली की बड़ी रे जगा-जोत ते
खामिन-खामिन दिवल्या जलय रे।। एनी...
ओकी बिछिया की बड़ी रे इन्कार रे
खामिन-खामिन दिवल्या जलय रे।। एनी...