भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

एसे एसे मँडई कोंडागाँव चो / छत्तीसगढ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
   ♦   रचनाकार: अज्ञात

एसे एसे मँडई कोंडागाँव चो
तुके चूड़ी पिंधायँदे मोचो नाव चो
एसे एसे मँडई कोंडागाँव चो
तुके चूड़ी पिंधायँदे मोचो नाव चो।

एयँदे एयँदे मँडई कोंडागाँव चो
मके चूड़ी पिंधासे तुचो नाव चो
एयँदे एयँदे मँडई कोंडागाँव चो
मके चूड़ी पिंधासे तुचो नाव चो।

काजर लगाउन एयँदे टिकली सजाउन
काजर लगाउन एयँदे टिकली सजाउन
बिछिया लगाउन एयँदे पयँरी बजाउन
बिछिया लगाउन एयँदे पयँरी बजाउन
भरे बजार में चिन्हुन मके तुइ
भरे बजार में चिन्हुन मके तुइ
मके चूड़ी ऽ ऽ
मके चूड़ी पिंधासे तुचो नाव चो।

एसे एसे मँडई कोंडागाँव चो
तुके चूड़ी पिंधायँदे मोचो नाव चो।

मँडई बुलायँदे तुके खाजा खवायँदे
मँडई बुलायँदे तुके खाजा खवायँदे
झुलना झुलाउन तुके सरकस दखायँदे
झुलना झुलाउन तुके सरकस दखायँदे
हात के तुचो धरुन सँग ने मयँ
हात के तुचो धरुन सँग ने मयँ
तुके चूड़ी ऽ ऽ
तुके चूड़ी पिंधायँदे मोचो नाव चो।

एयँदे एयँदे मँडई कोंडागाँव चो
मके चूड़ी पिंधासे तुचो नाव चो।

पान खवायँदे तुके चटनी-चमन चो
पान खवायँदे तुके चटनी-चमन चो।
गोदना गोदायँदे हाते मयँ तो तुचो नाव चो
गोदना गोदायँदे हाते मयँ तो तुचो नाव चो।
मया चो बाँसुरी बजाउन मयँ
मया चो बाँसुरी बजाउन मयँ
तुके चूड़ी ऽ ऽ
तुके चूड़ी पिंधायँदे मोचो नाव चो।
एसे एसे मँडई कोंडागाँव चो
तुके चूड़ी पिंधायँदे मोचो नाव चो।

एयँदे एयँदे मँडई कोंडागाँव चो
मके चूड़ी पिंधासे तुचो नाव चो।

एसे एसे मँडई कोंडागाँव चो
तुके चूड़ी पिंधायँदे मोचो नाव चो।

एयँदे एयँदे मँडई कोंडागाँव चो
मके चूड़ी पिंधासे तुचो नाव चो।

ला ला ला ला ला ला ला ला ला
हूँ हूँ हूँ हूँ हूँ हूँ हूँ हूँ हूँ