भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐसा क्या लिखूँ / सौरभ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐसा क्या लिखूँ इस दौर में
जो ला सके अमन
और दे सके चैन
जिसे पढ़कर रूह को पहुँचे सुकून
जिसे गुनगुना कर
गोरी पनघट से भरे पानी
जिसे सुन मुर्झाए फूल खिल सकें
रेगिस्तान हो हरा-भरा
और समुद्र में भटके नाविक
को मिले अपनी दिशा।