भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐसा क्यों होता है? / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपनी बकरी काली
फिर भी देती दूध सफेद,
नहीं समझ में आया अब तक
क्या है इसका भेद?

पत्ती होती हरी, हथेली पर
रचती है लाल,
जाने कैसे करती मेंहदी
जादू-भरा कमाल?

मुट्ठी में हर चीज पकड़ लो
हवा न पकड़ी जाती,
जाने ऐसा क्यों होता है
मैं ये समझ न पाती।

मम्मी से पूछो तो कहती-
‘खा मत यहाँ दिमाग’
पापा कहते-‘जा मम्मी के
पास चली जा भाग’।