भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐसा क्यों होता है / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपनी बकरी काली
फि‍र भी देती दूध सफेद
नहीं समझ में आया अब तक
क्‍या है इसका भेद ?
पत्‍ती होती हरी, हथेली पर
रचती है लाल,
जाने कैसी करती मेंहदी
जादू-भरा कमाल ?
मुट्ठी में हर चीज पकड़ लो
हवा न पकड़ी जाती,
जाने ऐसा क्‍यों होती है
मैं ये समझ न पाती।
मम्‍मी से पूछो तो कहती-
खा मत यहाँ दि‍माग’
पापा कहते- ‘जा मम्‍मी के
पास चली जा भाग।