भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐसी निज नाम हर्ष हिय हेरो / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐसी निज नाम हर्ष हिय हेरो।
रत मत रहत काज अपने को गहन ज्ञान कर चेत सबेरो।
कलीकाल जम जाल बंदु बहुनि में छूट रहो तस काल घनेरो।
ज्यौं रिव किरन तिमिर सब नासत बसत ज्ञान उर मिटत अंधेरो।
जगमगात नाम परिपूरन आद अंत लग स्वारथ तेरो।
जूड़ीराम सरन सतगुरु के दियो लखाय नाम मग मेरो।