भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐसों तन भयो गयो सब ही को / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐसों तन भयो गयो सब ही को।
रे मन चेत हेत कर हर सों अंतकाल बिछुरे को की को।
जोग्य जग्य जप तप अखंड वृत नाम बिना फीको तन तीको।
हरदम हांक काल मन लागो और रहस देखत सब फीको।
बहो जात सिंसार धार में कर्म-सुकर्म बाँध जस जी को।
जूड़ीराम नाम बिन चीन्हें जात जगत फिर खबर न ही को।