भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐसो करो बनज बेपार हो / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐसो करो बनज बेपार हो अटल पूंजी निज नाम की।
पाई पूंजी हरनाम की दिन-दिन दूनी होय।
सौदा करी ने काऊ ने परी झमेले सोय हो।
सतगुरु मेरो जौहरी सौदा पूरनपूर।
सुख समानो शब्द में दर्द जगत को धूर हो।
कागद फाटो काल को मिटी कर्म की रेख।
पायो पटौ हर नाम कौ धाम अखंडी देख हो।
सौदा को सब जग फिरे परख न जाने कोय।
जूड़ीराम सौदा मिले जो सतगुरु सनमुख होए हो।