भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐसो जीव जाल पचिहारो / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐसो जीव जाल पचिहारो।
रच-रच रहो गही न मारग काम क्रोध काया मतवारो।
नाहक भार मरो माया की वन-वन फिरो भार नहिं डारो।
नहिं जानत कब काल झपाटे जैसे बाज लवा को मारो।
जूड़ीराम नाम बिन चीन्हें, फिर-फिर जगत जाल में डारो।