भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐसो निज नाम नजर नहिं आया / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐसो निज नाम नजर नहिं आया।
निकटई है तो निहार न देखत लेखत-लेखत जनम गमायो।
फर्क है बीज नीचमत डालत बिन गुरु संध चीन नहिं पायो।
व्याप रहे सब ठौर एक सो बिन विवेक जुग-जुग डहकायो।
जूड़ीराम जैसई को तैसो ने कहुं गयो बहुरि नहिं आयो।