भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐ दिल न कर तू फ़िक्र पड़ेगा बला के हाथ / हातिम शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐ दिल न कर तू फ़िक्र पड़ेगा बला के हाथ
आईना हो के जा के लग अब दिलरूबा के हाथ

पैग़ाम दर्द-ए-दिल का मिरे ग़ुंचा-लब सती
पहुँचा सकेगा कौन मगर दूँ सबा के हाथ

मैं अब गिला जहाँ में बेगानों सीं क्या करूँ
जीना हुआ मुहाल मुझे आश्ना के हाथ

देना नहीं है शीशा-ए-दिल संग-दिल के तईं
दीजे अगर ये दिल तो किसू मीरज़ा के हाथ

आज़ाद हो रहा हूँ दो आलम के क़ैद सूँ
मीता लगा है जब सतीं मु बे-नवा के हाथ

ताबे रज़ा का उस की अज़ल सीं किया मुझे
चलता नहीं है ज़ोर किसूँ का क़ज़ा के हाथ

‘हातिम’ उम्मीद हक़ पे न राखे तो क्या करे
मौक़ूफ़ है मिलाप सजन का ख़ुदा के हाथ