भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐ बशर! तब तिरी दुनिया में उजाला होगा / विजय 'अरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐ बशर! तब तिरी दुनिया में उजाला होगा
जब तिरे पहलू में कुछ नूर का तड़का होगा।

आज लड़ जाऊंगा दुनिया से जो होगा होगा
हश्र[1] इक हश्र से पहले यहीं बरपा[2] होगा।

जितना ही रिज़्क़ की ख़ातिर कोई होगा बेताब
उतना ही हिर्स[3] की ज़ंजीर में जकड़ा होगा।

आदमी ऐसा भी होगा कि ख़ुदा ही से लड़े
सोचा होगा न ख़ुदा ने भी कि ऐसा होगा।

तू ख़लाओं[4] में फ़रिश्ता-सा उड़े लाख मगर
आदमी बन के ज़मीं पर तुझे चलना होगा।

दिल की जानिब ही नज़र जब न हुई दीवाने
फिर तिरी दूर निगाही से भला क्या होगा।

क्या कहा आज जोई देखा है तू ने इंसां
ऐ 'अरुण' शोबदा[5] होगा, कोई धोका होगा।

शब्दार्थ
  1. प्रलय, हालत
  2. होना
  3. संक्षिप्त
  4. विस्तार, स्पेस
  5. जादू