भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ओझा (सयाना) / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओझा ओछा पाय के, झूठ देय विश्वास।
धरनी यहि पाषंडते, होत नरकमें वास॥1॥

ओझा कोऊ जनि छुवै, मति बैठरे पास।
नगर ते मरि निकारिये, कही जो धरनी दास॥2॥

धरनी देही करनी, पाँच भूत जेहि लांग।
तासु निकाई लेहु करि, जा कछु माथे भाग॥3॥

धरनी ओझा राम करु, काया करन जानु।
मर्म भूत बहि जान दे, कही हमारी मानु॥4॥

सुनु अपराधी ओझवा, धरनी कहै पुकारि।
अजहुँ साधुकी शरन भजु, लैहैं तोहि उबारि॥5॥