भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओट / कुमार अजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वौ
डील खंगाळतौ रैयौ
हेरतौ रैयौ
म्हारा अैनांण
अर म्हैं बैठ्यौ रैयौ
ल्हुकनै
हिवड़ै मांय
अेक पासै।