भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ओस की एक बूँद / मीना चोपड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 ओस में डूबता अन्तरिक्ष
               विदा ले रहा है
                अँधेरों पर गिरती तुषार
                  और कोहरों की नमी से!

                     और यह बूँद न जाने
                 कब तक जिएगी
                   इस लटकती टहनी से
                    जुड़े पत्ते के आलिंगन में!

                      धूल में जा गिरी तो फिर
                 मिट के जाएगी कहाँ?
                  
                   ओस की एक बूँद
                   बस चुकी है कब की

                       मेरे व्याकुल मन में!