भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओह! चाँद / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


चाँद हथेली पर उग नहीं सका
सपनों वाली निशा से थी आशा

अश्रु-जल से बहुत सींची धरा
रेखाओं की मिट्टी न थी उर्वरा

खोद डाली बीहड़ की बाधा
मरु में परिश्रम अथाह बोया

रानियों के कारागृह में है या
मेरी हथेली सच में बंजर क्या

समय से संघर्ष है रेखाओं का
स्वप्न- निशा न आएगी है पता

किन्तु जाने क्यों मन नहीं मानता
हथेली पर चाँद उगाना ही चाहता

शुभकामनाएँ- सपने देखते रहना
निष्ठा से चाँद उगेगा- चाँदनी देगा

कल्पना पर तो वश है ही तुम्हारा
ओह! चाँद असीम चाँदनी लाया
-0-