भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओ ! माँआद्या प्रकृति / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


 
निज चिन्ताएँ
और उद्वेग सभी
तुझको सौंपे
ओ माँ ! आद्या प्रकृति
वर सदैव
अनंत चुम्बन भी
मेरे मस्तक
धरे तूने नित माँ
हरती रही
जीवन के विषाद
न प्रतिदान
कभी कोई भी चाहा,
दुस्साहस है
तुझ पर लिखना
कोई रचना ,
क्योंकि मैं तो हूँ स्वयं
तेरी रचना
मैं अपूर्ण, तू पूर्ण
रह न सकूँ
बिन कहे-लिखे भी
मैं हूँ कृतज्ञ
स्नेहमयी समझ
मेरा निःशब्द मौन !