भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओ अबोलो माणस / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खेत धणी करै
मजूरी
खेत में भंवै काळ
पण
अड़वो हाल अडिग
गादड़ा भूंसै
देख साम्ही
अड़वो जावै कठै।
गादड़ा नै भावै
ओ अबोलो माणस
पण उणां नै डर
फगत मिनखपणै रो
जिणां री छिब है
अडिग अड़वै में।