भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओ आकाश! / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ओसिप मंदेलश्ताम  » संग्रह: तेरे क़दमों का संगीत
»  ओ आकाश!

ओ आकाश ! अब सपने में दिखाई देगा तू मुझे

अंधा हो गया तू शायद, हो गया बेड़ा ग़र्क तेरा

जल गया दिन यह, जल गया कोरे काग़ज़-सा

थॊड़ी-सी राख बची और थोड़ा-सा अन्धेरा ।


(रचनाकाल : 1911)