भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ओ कोकिला रे... (भटियाली) / बांग्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात


ओ कोकिला रे...
आमार निभानो आगुन ज्वले मोर स्वरे।।
देखले तोर रूपेर किरण,
मने पड़े बन्धुर वरण।
आमार दुटो मनेर कथा शोन, कोकला रे।।
पड़ले नयन काल रूपे
पराण आमार उठे क्षेपे।
आमार ए व्यथा कि बुझबे अपरे।।