भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओ गान्ही जी ओ गान्ही जी / प्रदीप शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहाँ छुपे हौ ओ गान्ही जी
तनी निहारौ ओ गान्ही जी!!

तुम्हरे नाम प भगमच्छरु है
कहाँ बिलाने हौ गान्ही जी!!

हाँथे मा तस्वीर तुम्हारि है
कमर मा कट्टा है गान्ही जी!!

सत्य अहिंसा सदाचार की
करैं सफाई ओ गान्ही जी!!

सबसे पीछे खड़ा बुधैय्या
वहै पुकारै ओ गान्ही जी!!

वहिकी कोउ सुनै वाला ना
ओ गान्ही जी ओ गान्ही जी!!