भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओ देस कठी'नैं जार्'यो है / मानसिंह शेखावत 'मऊ'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ देस कठी'नै जार्'यो है !
नहीं भेद रामजी पार्'यो है !!
          बोलण-चालण का सू'र नहीं !
          तन ऊपर ढंग का पू'र नहीं !!
          आ होठां सूं रंगरेजां सी !
          आ बोली सूं अंगरेजां सी !!
पण आँख्यां काजळ सार्'यो है !
ओ देस कठी'नैं जार्'यो है !!
          हाथां सुहाग की चूड़ी ना !
           पग मैं बाजै बिछूड़ी ना !!
           काळी नागणं सा बाळ कठै ?
           माथै सिंदूरी टाळ कठै ??
तन गाबाँ बारैं आर्'यो है !
ओ देस कठी'नैं जार्'यो है !!
          आ धक्का-मुक्की गाड्यां की !
           आ खिंची लूगड़ी लाड्यां की !!
           अ ऐलड़ै लुगायाँ टूँट्यां पर !
           अ सरम टाँक दी खूँट्याँ पर !!
घरधणी घूँघटो सार्'यो है !
ओ देस कठी'नैं जार्'यो है !!
           बा सीता की सी लाज कठै !
            बो रामराज सो राज कठै !!
            पन्ना धायण सो त्याग कठै !
            बा तानसेन सी राग कठै !!
ओ फिलमी गाणां गार्'यो है !
ओ देस कठी'नैं जार्'यो है !!
            अ दूंचै पूत जणीतां नैं !
             आ बाड़ चाटगी खेताँ नैं !!
             असमत लुट'री थाणै मैं !
              झै'र दवाई खाणै मैं !!
ओ हात,हात नैं खार्'यो है !
ओ देस कठी'नैं जार'यो है !!
               छोरा-छोर्'याँ को मिट्यो भेद !
                रद्दी कै सागै बिक्यो वेद !!
                डिसको को रोग चल्यो भारी !
                डिसको राजा अर दरबारी !!
आँख्यां पर जाळो छार्'यो है !
ओ देस कठी'नैं जार्'यो है !!
                 के हाल कहूँ गुरु-चेलै का !
                 लक्खण आँ मैं नहीं धेलै का !!
                 ऐ साथ मरै अर साथ जिवै !
                  बोतल अर बीड़ी साथ पिवै !!
खेताँ मैं तीतर मार्'यो है !
ओ देस कठी'नैं जार्'यो है !!
                   धोळै दोपारां डाको है !
                    ओ लूंठाई को हाको है !!
                    झूंठै कोलां को खाको है !
                     फाट्यै गा'बै मैं टाँको है !!
ओ मिनखपणै नैं खार्'यो है !
ओ देस कठी'नैं जार्'यो है !!