भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओ प्रेम / सिया चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थूं मत सोचजै रामूड़ा
कै ओ प्रेम
लूवां बाजती
दोपारी में मिलै
जकी छिंयां है...।

अरे बावळा
ओ तो
इस्यो तपतो तावड़ो है
कै पग मेलतां
फाला उपड़ जावै...।

आ भी मत सोची
कै ओ प्रेम
दिनूगै आळो
दई-छाछ रो
कळेवो है जिणनै
थूं गटागट गिट जावै।

ओ तो बो जैर है
जकै नै थूं
नीं गिट सकै
अर नीं सोरै सांस
थूकण में ई आवै...।

थूं आ तो नीं सोचै
ऐ रूपलै प्रेम रा
मारग सुगम-सोरा है
अरे गेला, सुजाण
आं में तो बै कांटा है
जिण में अळूझ‘र मन रा
किरचा-किरचा खिंड जावै...।