भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओ मेरी मंजरी / बुद्धिनाथ मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे कंधे पर सिर रखकर
तुम सो जाओ
ओ मेरी मंजरी आम की।

मैं तुममें खो जाऊं
तुम मुझमें खो जाओ
मेरी मंजरी आम की।

ये पावों के छाले
बतलाते हैं, तुमने
मेरी खातिर कितनी
पथ की व्यथा सही है

पीर तुम्हारी हर लूँ
यह चाहता बहुत हूँ
किंतु कंठ से मुखरित
होते शब्द नहीं हैं

मेरी शीतल चंदन वाणी
तुम हो जाओ
ओ मेरी मंजरी आम की।

वह भी कैसा सम्मोहन था
खिंचकर जिससे
आये हम उस जगह
जहां दूसरा नहीं है।

यह भी क्रूर असंगति
जीनी पड़ी हमी को
घर अपना है, पर अपना
आसरा नहीं है


बीज बहारों के पतझर में
तुम बो जाओ
औ मेरी मंजरी आम की।


मेरे कंधे पर सिर रखकर
तुम सो जाओ
ओ मेरी मंजरी आम की