भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ओ रघुबर न कोउ विपत्ति के साथी / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ओ रघुबर न कोउ विपत्ति के साथी
एक विपत्ति राजा दशरथ पड़ गई
राम लखन वनवासी ओ रघुबर...
दूसरी विपत्ति श्री राम पे पड़ गई
वन-वन फिरत उदासी। रघुबर...
तीसरी विपत्ति रावण पे पड़ गई
लंका जली दिन राती। रघुबर...
चौथी विपत्ति रावण पे पड़ गई
थाहि लगी जन घाती। रघुबर...