भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओ रोळ राज रो डंडो / विनोद सारस्वत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ रोळ राज रो डंडो, मरूधरियै में रोळ मचावै।
काकड़िया सा कंवळा पर, हुकम आपरो चलावै।।
ओ रोळ राज रो डंडो.......

लूंट मचावे धोळै दुपारै, भोळा नैं ओ भरमावै।
कूड़-कपट री करै कमाई, धन-धन आपरी करावै।।
ओ रोळ राज रो डंडो......

बांठ-बांठ में बैठा हाकम, गिंडका ज्यूं गरळावै।
उपरा-उपरी करै चूरमा, पिंडी पकड़ खा ज्यावै।।
ओ रोळ राज रो डंडो......

कागदां रा कारीगर अे, नाडी-नाडोळयां खोदावै।
थोथो पेट भरै नही यांरौ फैर पाछी बुरावै।।
ओ रोळ राज रो डंडो......

भांत-भंतीला टेक्सां है माणस हेटो दब रैयौ।
रोळ राज रा रासा देख, पांणी पतळो पड़ रैयौ।
ओ रोळ राज रो डंडो......