भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

औकात / राजू सारसर ‘राज’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चेत सूं लेय ’र
उधार रो हरख
उमायोड़ो खेत
आफर ’र ढोल होया
फाटण ढूक्या
पण भूलग्या,
बैसाखर भचीड़ा लाग्यां,
कांईं बणसी ?
आथूणां रा गोळां सूं
खेत, खेत रह्या
सगळो उमाव
आ फू होग्यौ
अबै पड्या है
मूंथै माथै
औकात भूलणियां
अमर कुण देख्या।