भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

औनलैन दुन्या / सुधीर बर्त्वाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पाटी बोळ्ख्या
रिंगाळ, कलम
छोड़ी।
आज हमुन कम्प्यूटर
पकड़्यालि।
सजिला- असजिला
मुबैल पकड़ी
सैरि दुन्या ओनलैन
ह्वै ग्याई।
पर
जिकुड़ा का भितर
हमारि जु अपणास छै
जणि कख ?
औफलैन चली ग्याई।