भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

औरतें / चंद्र रेखा ढडवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


बाहर पंच भूतों से बने शरीर को
पाँच तत्वों में विलीन कर देने के
उपक्रम में अति व्यस्त
इस अंतिम घड़ी में
बहुत-बहुत सार्थक करते
दिखते मर्द
भीतर/बीते पल-पल को
सिमरन-माला के
मोतियों-सा घुमातीं
कुछ मन
कुछ लोक निभातीं
दहाड़ें मार-मार कर
रोती औरतें.