भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

औरत और इंसान / अंजू शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोच के एक जरूरी मुकाम पर
अक्सर ये लगता है कि
क्यों न सोचा जाए
उन सभी संभावनाओं पर
जहाँ एक औरत और एक इंसान
बन जाएँ समानार्थी शब्द

एक औरत बने हुए ही
बहुत ही सहज, सुगम बल्कि है
एक इंसान बनना
बहुत से मूल अधिकार स्वतः ही
भर देते हैं व्यक्तित्व की झोली,
जबकि एक इंसान बने हुए ही
एक औरत बनने में
बहुत कुछ है जो पीछे छूट जाता है...