भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

और एक अंतिम रचना! / मीना चोपड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह सभी क्षण
जो मुझमें बसते थे
उड़कर आकाशगंगा
में बह गए।

और तब आदि ने
अनादि की गोद से उठकर
इन बहते पलों को
अपनी अंजली में भरकर
मेरी कोख में उतार दिया।

मैं एक छोर रहित गहरे कुएँ में
इन संवेदनाओं की गूँज सुनती रही।

एक बुझती हुई याद की
अंतहीन दौड़!
एक उम्मीद!
एक संपूर्ण स्पर्श!
और एक अंतिम रचना!