भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

और कोई जो सुने ख़ून के आँसू रोए / 'बाकर' मेंहदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

और कोई जो सुने ख़ून के आँसू रोए
अच्छी लगती हैं मगर हम को तुम्हारी बातें

हम मिलें या न मिलें फिर भी कभी ख़्वाबों में
मुस्कुराती हुई आएँगी हमारी बातें

हाए अब जिन पे मुसर्रत का गुमाँ होता है
अश्‍क बन जाँएगी इक रोज़ ये प्यारी बातें

याद जब कोई दिलाएगा सर-ए-शाम तुम्हें
जगमगा उट्ठेंगी तारों में हमारी बातें

उन का मग़रूर बनाया है बड़ी मुश्किल से
आईना बन के रहें काश हमारी बातें

मिलते मिलते यूँ ही बे-गाने से हो जाएँगे
देखते देखते खो जाएँगी सारी बातें

बो बहुत सोचें तड़प उट्ठीं मगर ऐ ‘बाक़िर’
याद आईं तो न आईं ये तुम्हारी बातें