भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

और यथार्थ भी / कुमार मुकुल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


और यथार्थ भी
एक दिन
दुररूस्वप्न हो जाता है

आपके कांधे से लग कर
चलती खुशी
कैद हो जाती है
आइने में अपने ही

खुद पर रीझती और खीझती
उसकी आवाज
अब दूर से आती सुनाई पडती है
दुविधा की कंटीली बाड
कसती जाती है घेरा

और जीने का मर्ज
मरता जाता है
मरता जाता है।