भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कंकन न छोरें जानकी बंद न खोलें / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कंकन न छोरें जानकी बंद न खोलें राजा राम सखी रे।
काये खों बिरजीं जानकी औ कायें खों राजा राम सखीरे।
कंकन न छोरें जानकी...
झूमर खों बिरजीं जानकी औ मुकुट खों राजा राम सखी रे।
कंकन न छोरें जानकी...
झुमकी खों बिरजीं जानकी औ कुण्डल खों राजा राम सखी रे।
कंकन न छोरें जानकी...
हार खों बिरजी जानकी औ कंठा कों राजा राम सखी रे। कंकन न छोरें जानकी...
कंगन कों बिरजी जानकी औ कड़ा कों राजा राम सखी रे।
लच्छा कों बिरजी जानकी औ तोड़ा कों राजा राम सखी रे।
कंकन न छोरें जानकी बंद न खोलें राजा राम सखी रे।