भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कंहिं खे उन जी बि ख़बर आ? / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कंहिं खे उन जी बि ख़बर आ?
कंहिं तरफ़ पंहिंजो सफ़र आ?

धुन्ध-वासीअ खां पुछीं थो!
शाम आहे या सहर आ?

तो खे शायद न हुजे सुधि।
तुंहिंजी सभिनी खे ख़बर आ॥

राति का गैस थी लीकि आ।
धुन्धु ई धुन्धु सहर आ॥

रोशन आ मुंहिंजो सुभाणो।
टी.वी. रेडियो जी ख़बर आ॥

वोटु आ तंहिंजो महांगो।
जंहिं जो फु़ट-पाथ ते घरु आ॥