भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कइलीं हम कवन कसूर / भोजपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कइलीं हम कवन कसूर... नयनवाँ से... नयनवाँ से
नयनवाँ से दूर कइल... आ बलमूँ...
नयनवाँ से दूर... नयनवाँ से दूर... नयनवाँ से दूर कइल...
आ बलमूँ...

गुन-ढंग रहल नीक औ सुरतियो रहल ठीक
त काहें हम्में दूर कइल... आ... बलमूँ...
नेकनामी में त... अ...नाहीं... बदनामी में जरूर
गाँव भर में हम्में मशहूर कइल... आ बलमूँ...
कइलीं हम कवन कसूर...